Court Case Astrology | कोर्ट केस से कैसे बाहर आएं

यदि आप पर मुकदमा चल रहा है या आप मुकदमा करने की सोच रहे हैं तो आप सही पेज पर हैं। ज्योतिष की सहायता से आप अपने कोर्ट केस से जुड़े हर अच्छे बुरे पहलू को जान सकते हैं। कुंडली के द्वारा आप अपने कोर्ट केस के परिणाम, उचित-अनुचित समय, आपकी ताकत, कमजोरियां और यहां तक कि आपके प्रतिद्वंद्वी के बारे में जानकारी पा सकते हैं। इस महत्वपूर्ण जानकारी से आप अपने पक्ष को मजबूत बना सकते हैं। अधिक स्पष्ट जानकारी के लिए कुंडली विश्लेषण करवाएं। ज्योतिष केवल जीत या हार की भविष्यवाणी नहीं करता; बल्कि यह आपको जीत की और अग्रसर करता है। 
अदालती मामलों के प्रकार:
तलाक का मामला
संपत्ति का मामला
संतान के कानूनी अधिकार का मामला
सरकार के साथ कोई अदालती मामला, आदि।
आपके सभी कोर्ट केस से संबंधित प्रश्नों का उत्तर आपको यहां प्राप्त होगा।

Court Case Astrology | कोर्ट केस से कैसे बाहर आएं

यदि आप पर मुकदमा चल रहा है या आप मुकदमा करने की सोच रहे हैं तो आप सही पेज पर हैं। ज्योतिष की सहायता से आप अपने कोर्ट केस से जुड़े हर अच्छे बुरे पहलू को जान सकते हैं। कुंडली के द्वारा आप अपने कोर्ट केस के परिणाम, उचित-अनुचित समय, आपकी ताकत, कमजोरियां और यहां तक कि आपके प्रतिद्वंद्वी के बारे में जानकारी पा सकते हैं। इस महत्वपूर्ण जानकारी से आप अपने पक्ष को मजबूत बना सकते हैं। अधिक स्पष्ट जानकारी के लिए कुंडली विश्लेषण करवाएं। ज्योतिष केवल जीत या हार की भविष्यवाणी नहीं करता; बल्कि यह आपको जीत की और अग्रसर करता है। 
अदालती मामलों के प्रकार:
तलाक का मामला
संपत्ति का मामला
संतान के कानूनी अधिकार का मामला
सरकार के साथ कोई अदालती मामला, आदि।
आपके सभी कोर्ट केस से संबंधित प्रश्नों का उत्तर आपको यहां प्राप्त होगा।

1.

क्या मुझे दोषी पाया जाएगा (Kya Main Doshi Paya Jaunga)

आपकी जन्म कुंडली इस प्रश्न का उत्तर दे सकती है - क्या आपको दोषी पाया जाएगा? कुंडली से आप पता कर सकते है कि आपको जुर्माना, प्रतिबंध या कारावास या किस दंड का सामना करना पड़ेगा। यदि जन्म कुंडली में "बंधन योग" है, तो यह जेल जाने की संभावना बताता है। कानून ज्योतिष (court case astrology) में बारहवां भाव बंधन योग और जेल जाने की संभावना को दर्शाता है। एक कमज़ोर छठा व बारहवा भाव आपके दोषी पाए जाने की संभावना को दर्शाता है।  यदि आप अधिकांश समय अपने घर पर रहना पसंद करते हैं, किसी से अधिक मिलते जुलते नहीं, आपको घूमने फिरने का बिलकुल भी शौक नहीं और आप लगभग एक जैसी जीवन शैली में रहते है तो कानून ज्योतिष (legal  astrology ) के अनुसार आपकी कुंडली में बंधन योग हो सकता है। अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें और जानें कि क्या आपकी जन्म कुंडली में बंधन योग है, आपके दोषी पाए जाने की कितनी संभावना है और किन ज्योतिषीय उपाय (astrology remedies) को कर आप दुष्परिणामों से बच सकते हैं।  अपने जन्म विवरण के अनुसार अधिक जानें

2.

क्या मैं कोर्ट केस जीत पाऊंगा? Kya Main Court Case Jeet Paaunga ?)

आपकी जन्म कुंडली इस प्रश्न का उत्तर दे सकती है- क्या आप कोर्ट केस जीत पायेंगें। क़ानून ज्योतिष (court case astrology) में जन्म कुंडली का ग्यारहवां भाव कोर्ट केस जीतने का संकेत देता है। यदि इस भाव पर अनुकूल ग्रहों का प्रभाव हो, तो आपकी कोर्ट केस जीतने की प्रबल संभावना होती है। साथ ही साथ, क़ानून ज्योतिष (legal  astrology ) में ग्रहों की दशा व गोचर भी एक महत्वपूर्ण कारक है। ग्यारहवां भाव इच्छाओं की पूर्ति का भाव है, जिसमें कोर्ट केस जीतने की इच्छा भी सम्मिलित है। आपकी जन्म कुंडली में एक मजबूत ग्यारहवां भाव आपकी सफलता की संभावनाओं को बढ़ा सकता है। इसके अतिरिक्त, यदि आप वर्तमान में किसी अनुकूल ग्रह की दशा से गुजर रहे हैं तो आपके केस जीतने की संभावना और भी अधिक बढ़ जाती है। आपका एकादश भाव आपकी जीत या हार के बारे में क्या कहता है, यह जानने के लिए यहां क्लिक करें। अपने जन्म विवरण के अनुसार अधिक जानें

3.

मेरा केस कब तक चलेगा? (Mera Court Case Kab Tak Chalega?)

आपकी जन्म कुंडली इस प्रश्न का उत्तर दे सकती है कि आपका कोर्ट केस कब तक चलेगा? करियर ज्योतिष (career astrology) के अनुसार, आपके छठे भाव में ग्रहों के आधार पर अदालती मामले की अवधि अलग-अलग हो सकती है। राहु और शनि जैसे ग्रह अदालती मामले को लंबा खींच सकते हैं, जबकि मंगल और बुध इसे जल्दी निपटाने में मदद कर सकते हैं। क़ानून ज्योतिष (legal astrology) के साथ अपने छठे भाव में ग्रहों के प्रभाव की जांच करके, आप अपने अदालती मामले की अवधि का अनुमान लगा सकते हैं। यदि आपको बीमारियों से उबरने में लंबा समय लगता है या आपको अपने अधीनस्थों या नौकरों के साथ लगातार समस्याओं का सामना करना पड़ता है, तो यह छठे भाव के पीड़ित होने का संकेत है। यदि आप जानना चाहते हैं कि आपके कोर्ट केस में कितना समय लगेगा तो यहां क्लिक करें। प्राप्त जानकारी आपको भविष्य की योजना बनाने में मदद करेगी। ज्योतिषीय उपायों (astrological remedies) से आप किसी भी प्रकार के दुष्परिणामों से बच सकते हैं।  अपने जन्म विवरण के अनुसार अधिक जानें

4.

क्या मेरा कोर्ट केस इस साल ख़तम हो जाएगा?( Kya Mera Court Case Iss Saal Khatam Ho Jaayega ?)

आपकी जन्म कुंडली इस प्रश्न का उत्तर दे सकती है कि क्या आपका केस इस वर्ष समाप्त हो जाएगा? किसी अदालती मामले (court  case )के ख़त्म होने का मतलब उससे मुक्त होना है, और इसके लिए अक्सर भाग्य की आवश्यकता होती है। क़ानून ज्योतिष (court case astrology)से आप जान सकते हैं कि इस वर्ष आप कितने भाग्यशाली है। यदि इस वर्ष सबसे लाभकारी ग्रह बृहस्पति आपके पक्ष में है, तो न केवल आपका मामला समाप्त हो जाएगा, बल्कि परिणाम भी आपके पक्ष में होगा। किसी भी वर्ष में ग्रहों की स्थिति और गोचर उस वर्ष कानूनी मामलों (legal matters)के अच्छे या बुरे परिणाम निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यदि आप जानना चाहते हैं कि इस वर्ष ग्रहों का गोचर आपका साथ देगा या नहीं, तो यहां क्लिक करें। अपने जन्म विवरण के अनुसार अधिक जानें

5.

क्या मेरे कोर्ट केस में ज़्यादा खर्चा होगा ?( Kya Mere Court Case Main Jyada Kharcha Hoga? )

आपकी जन्म कुंडली इस प्रश्न का उत्तर दे सकती है-क्या मेरे कोर्ट केस में भारी खर्च आएगा? यदि आपका बारहवां भाव समस्याग्रस्त है, तो आप अत्यधिक और व्यर्थ के खर्चे करेंगें। यदि आपके छठे और बारहवें भाव के बीच संबंध है तो आप अदालती मामलों पर भी भारी खर्च कर सकते हैं। अनुमान के लिए यदि आप दवाइयों, दैनिक उपयोग की चीज़ों, और व्यक्तिगत देखभाल की वस्तुओं पर बहुत अधिक खर्च करते हैं तो आपका छठा और बारहवां भाव सम्बंधित है। यदि ऐसा है तो सावधान रहें! हालाँकि, सरल उपायों और कर्म सुधार तकनीक अपनाकर आप अपने छठे और बारहवें भाव के बीच संबंध को कमजोर कर सकते हैं, जिससे अदालती मामलों पर खर्च कम हो जायेगा। इन ज्योतिषीय उपायों के बारे में अधिक जानने के लिए यहां क्लिक करें। अपने जन्म विवरण के अनुसार अधिक जानें

6.

मुझे Court Case में क्या-क्या परेशानियां आ सकती हैं? (Mujhe Court Case Main Kya Kya Pareshaniyan Aa Sakti Hain ?)

आपकी जन्म कुंडली इस प्रश्न का उत्तर दे सकती है कि आपको अपने अदालती मामले में किन बाधाओं या चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। क़ानून ज्योतिष में (court case astrology)बाधक ग्रह, अपनी स्थिति के आधार पर, न केवल आपकी कानूनी कार्यवाही में बल्कि आपके जीवन के अन्य पहलुओं में भी बाधाएँ पैदा कर सकता है। यदि आप स्वयं को बार-बार संघर्ष करते हुए या अप्रत्याशित बाधाओं का सामना करते हुए पाते हैं, तो संभव है कि बाधक ग्रह आपकी जन्म कुंडली (kundli by date of birth)में मजबूत स्थिति में है। आपके अदालती मामले (legal matters) में आने वाली बाधाएं बाधक ग्रह के प्रभाव पर निर्भर करेंगी। उदाहरण के लिए, यदि बुध आपका बाधक ग्रह है, तो आपको अपने वकील, दस्तावेज़, भ्रामक बातचीत, झूठे बयान या आपकी बहन से संबंधित चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। आप अपने बाधक ग्रह और उससे जुड़ी बाधाओं के बारे में जानने के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं। अपने जन्म विवरण के अनुसार अधिक जानें

7.

क्या मुझे जेल होगी? (Kya Mujhe Jail Hogi ?)

आपकी जन्म कुंडली इस प्रश्न का उत्तर दे सकती है कि क्या आपको जेल की सज़ा होगी? जन्म कुंडली में बारहवें भाव से कारावास या जेल का संकेत मिलता है। क़ानून ज्योतिष (court case astrology) के अनुसार यदि जन्म कुंडली में या गोचर के दौरान बारहवां भाव पीड़ित हो तो जेल जाना पड़ सकता है। हालाँकि, ऐसा होने के लिए, जन्म कुंडली में "जेल योग (jail yoga in kundli)" या "बंधन योग (bandhan yoga)" होना चाहिए। यदि आप ज्यादा यात्रा किए बिना एक ही स्थान पर रहते हैं, लोगों से मिलने से बचते हैं या अधिकतर बिस्तर पर रहना आपको पसंद है, तो यह जन्म कुंडली में बंधन योग का संकेत हो सकता है। यदि बंधन योग मजबूत हो तो ज्योतिष में जेल (jail in astrology) जाने की संभावना बढ़ सकती है। जेल जाने की संभावना के बारे में अधिक जानने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। अपने जन्म विवरण के अनुसार अधिक जानें

8.

क्या जेल जाने से पहले मुझे Bail मिल जाएगी?Kya Jail Jaane Se Pehle Mujhe bail Mil Jaayegi ?)

आपकी जन्म कुंडली इस सवाल का जवाब दे सकती है कि क्या आपको जेल जाने से पहले जमानत मिल जाएगी? अगर आप जमानत पाना चाहते हैं तो आपको भाग्य का साथ चाहिए। करियर ज्योतिष (career astrology) में आपकी जन्म कुंडली का नौवां भाव भाग्य का भाव कहलाता है। यह ग्यारहवें भाव से ग्यारहवां भाव है अर्थात आपकी इच्छाओं की पूर्ति और लाभ को दर्शाता है। जन्म कुंडली में या गोचर के माध्यम से यदि नौवां भाव एक मज़बूत स्थिति में हो तो आपको जमानत मिल सकती है। कानूनी मामलों (legal matters) के परिणामों के लिए अपने नवें भाव की स्थिति जानना आवश्यक है। अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें और देखें कि आपका नवां भाव (ninth house) यानि आपका भाग्य आपको जमानत दिलवाने में कितना सक्षम है। अपने जन्म विवरण के अनुसार अधिक जानें

9.

क्या मेरा गवाह मुझे धोखा देगा?(Kya Mera Gawah Mujhe Dhokha Dega ?)

आपकी जन्म कुंडली इस प्रश्न का उत्तर दे सकती है कि क्या आपका गवाह आपको धोखा देगा? कानून ज्योतिष (legal astrology)में जन्म कुंडली में बारहवें और आठवें भाव से धोखाधड़ी और विश्वासघात देखा जा सकता है। बारहवां भाव छुपे हुए शत्रुओं को दर्शाता है। आठवां भाव नुकसान पहुंचाने वाली अचानक होने वाली घटनाओं या अदृश्य ताकतों को दर्शाता है जो आपके खिलाफ काम कर सकती हैं। यदि जन्म कुंडली में ये भाव पीड़ित हों तो ज्योतिष में आपको कानूनी मामलों (court case astrology) में गवाह से धोखाधड़ी या विश्वासघात की संभावना बनती है। इससे पहले कि आपको अपने गवाह की ओर से शर्मिंदगी और धोखाधड़ी का सामना करना पड़े, अधिक जानने के लिए यहां क्लिक करें। अपने जन्म विवरण के अनुसार अधिक जानें

10.

क्या court की Date को आगे करना मेरे लिए सही रहेगा?( Kya Court Ki Date Ko Aage Karna Mere Liye sahi Rahega ?)

आपकी जन्म कुंडली इस प्रश्न का उत्तर दे सकती है कि क्या आपके लिए अपनी अदालत की तारीख को स्थगित करना फायदेमंद रहेगा? कोर्ट केस (court case) में समय सब कुछ है! अच्छी दशा और गोचर में आपको अच्छे परिणाम मिलते हैं, जबकि नकारात्मक दशा और गोचर में परिणाम बिल्कुल विपरीत होते हैं। कानून ज्योतिष (legal matter astrology) के अनुसार यदि आपकी अदालत की तारीख नकारात्मक दशा के दौरान आती है, जिसके प्रतिकूल परिणाम हो सकते हैं, तो इसे स्थगित करने की सलाह दी जाती है। अपनी कोर्ट की तारीख को दिए गए लिंक की मदद से जांचें और तय करें कि क्या तारीख को स्थगित करना उपयुक्त रहेगा। अपने जन्म विवरण के अनुसार अधिक जानें

11.

क्या मेरा वकील मेरे लिए सही है?( Kya Mera Vakeel Mere Liye Sahi Hai?)

क़ानून ज्योतिष () में यदि आपका छठा भाव मजबूत है, तो आपको एक अच्छा वकील मिलेगा। परन्तु, यदि यह कमजोर है, तो आपको कुशल वकील मिलना मुश्किल रहेगा चाहे आप कितना भी मूल्य क्यों न चुका रहे हों। कानून ज्योतिष(legal case astrology) में आपकी जन्म कुंडली से हम देख सकते हैं कि आपका वकील आपके लिए कितना उपयुक्त है। वकील चुनने का समय भी बहुत महत्वपूर्ण है। अच्छी दशा के दौरान आपको एक अच्छा वकील मिलेगा, जबकि ख़राब दशा एक अयोग्य वकील को आपके सामने लेकर आएगी। अपना वर्तमान समय जानने के लिए ज्योतिषीय परामर्श लें (astrology consultation for court case), जानें कि क्या आपकी वर्तमान दशा अवधि आपको एक योग्य वकील से मिलवाएगी या नहीं। प्रभावी ज्योतिषीय उपायों (astrological remedies) से आपको सकरात्मक परिणाम मिल सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें।  अपने जन्म विवरण के अनुसार अधिक जानें

12.

मैं कब अपना court case फाइल करूँ? ( Main kab Apna Court Case File Karoon ?)

आपकी कुंडली बता सकती है कि आपको कब अपना कोर्ट केस फाइल करना चाहिए। कुंडली में अनुकूल दशा या समय आपके लिए सफलता और सकारात्मक परिणाम सुनिश्चित करता है। ग्रहों की दशा और गोचर को देखकर शुभ समय के बारे में जाना जा सकता है। क़ानून ज्योतिष (court case astrology) में अनुकूल समय वह है जब आपका छठा भाव मजबूत स्थिति में हो; उस दौरान आपके जीतने की संभावना बहुत बढ़ जाती है। जन्म कुंडली के अनुसार आपको वह समय चुनना चाहिए जब आपका प्रतिद्वंद्वी आपसे कमजोर स्थिति में हो। आइए हम आपको कानूनी ज्योतिष (legal astrology) का एक रहस्य बताते हैं: जब आपके प्रतिद्वंद्वी को स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़े तो मामला दर्ज करें! यह उनके कमजोर छठे भाव का संकेत है। उनका कमज़ोर समय मतलब आपका मजबूत समय ! ऐसे ही अनेक रहस्य जानने के लिए यहां क्लिक करें। अपने जन्म विवरण के अनुसार अधिक जानें

Frequently Asked Questions

कोर्ट-कचहरी के मामलों में सफलता पाने के लिए आपको अपने छठे भाव की और ध्यान देने की ज़रुरत है। एक बली छठा भाव आपको कोर्ट केस में सफलता दिलवाता है। छठे भाव को मजबूत करने के लिए आपको हनुमान जी की पूजा करनी चाहिए, पशुओं और निम्न वर्ग के लोगों की निस्वार्थ भाव से सेवा करनी चाहिए। यदि आप अनुशासन में रहेंगें और एक संयमित जीवन शैली अपनाएंगें तो निश्चय ही आपका छठा भाव मजबूत होगा, जिससे आपको अंततः जीत मिलेगी। कोर्ट-कचहरी के मामलों में सफलता पाने के लिए आपको अपने छठे भाव की और ध्यान देने की ज़रुरत है। एक बली छठा भाव आपको कोर्ट केस में सफलता दिलवाता है। छठे भाव को मजबूत करने के लिए आपको हनुमान जी की पूजा करनी चाहिए, पशुओं और निम्न वर्ग के लोगों की निस्वार्थ भाव से सेवा करनी चाहिए। यदि आप अनुशासन में रहेंगें और एक संयमित जीवन शैली अपनाएंगें तो निश्चय ही आपका छठा भाव मजबूत होगा, जिससे आपको अंततः जीत मिलेगी।

यदि आप कोर्ट केस जीतना चाहते हैं तो अपनी कुंडली के छठे भाव को मज़बूत बनाएं। ज्योतिषीय परामर्श से आप जान सकते हैं कि कौन से ग्रह आपके छठे भाव को नुक्सान पहुंचान रहे हैं। इनके आध्यात्मिक उपाय जैसे मंत्र जाप, पूजा, दान आदि से आप इन नकारात्मक ग्रहों को शांत कर सकते हैं। छठे भाव के प्रभावी उपायों में से एक है रोज़ व्यायाम करना करें और समाज सेवा करना। जानवरों, समाज के वंचित और कमजोर वर्गों की सेवा करने से आपको अपना मुकदमा जीतने में मदद मिलेगी। यह सबसे प्रभावशाली आध्यात्मिक उपाय है जो चमत्कारिक रूप से कार्य करता है। यदि आप कोर्ट केस जीतना चाहते हैं तो अपनी कुंडली के छठे भाव को मज़बूत बनाएं। ज्योतिषीय परामर्श से आप जान सकते हैं कि कौन से ग्रह आपके छठे भाव को नुक्सान पहुंचान रहे हैं। इनके आध्यात्मिक उपाय जैसे मंत्र जाप, पूजा, दान आदि से आप इन नकारात्मक ग्रहों को शांत कर सकते हैं। छठे भाव के प्रभावी उपायों में से एक है रोज़ व्यायाम करना करें और समाज सेवा करना। जानवरों, समाज के वंचित और कमजोर वर्गों की सेवा करने से आपको अपना मुकदमा जीतने में मदद मिलेगी। यह सबसे प्रभावशाली आध्यात्मिक उपाय है जो चमत्कारिक रूप से कार्य करता है।

ब्लॉग

Win Court Case With This Powerful Mantra

Are you struggling with a court case? Do you feel stuck and have no idea what to do? Despite hiring top lawyers, do you find yourself helpless? Do you want to win the case? ....... Read more

Astrological Remedies to win Court Case

Astrology remedies bring miraculous results! But you need to be a little patient and have complete faith in them. Sometimes, the results are seen as soon as you finish a remedy. It all depends on what intensity and intentions you are performing an astrological remedy to win the court case........ Read more

Baglamukhi Mantra To Win Court Case

The Bagla Mukhi mantra to win court case is powerful. It is associated with the Hindu goddess Bagla Mukhi, the deity of victory and protection in legal matters. Individuals recite this mantra to win their court cases........ Read more