ग्रहों की शांति के लिए क्या करें...

 ग्रहों की शांति के लिए क्या करें...

आस्था, श्रद्धा और विश्वास ऐसे शब्द हैं जिसको हम प्राचीनकाल से ही बड़ी शिद्दत के साथ निभाते आ रहें हैं और अब तक उस श्रद्धा और आस्था का पालन करते आ रहे हैं। अगर बात करें मनुष्य की तो जन्म से लेकर मृत्यु तक कई रीतियों को निभाता आ रहा है। शुरू से ही पत्थरों, पाषाणों और पर्वतों की पूजा करता रहा है। इसे आस्था न कहें तो और क्या कहें। आस्था की बदौलत ही हम हर कार्य को अंजाम देते हैं। वो कहते भी हैं न कि अगर मन चंगा तो कटौथी में ही गंगा। पहले लोग भोले-भाले थे। उनमें किसी बात को लेकर कोई बल छल नहीं आता था और भगवान जो कि इस सारी कायनात के रचियता हैं और इन लोगों की सारी बात भगवान सुनते भी थे। इसलिए मनुष्य का कर्मकांड के प्रति लोगों की आस्था आज भी उसी तरह बनी हुई है। अगर बात करें ग्रहों और नक्षत्रों की तो इसके प्रति लोगों की गहरी आस्था है।

अगर सूर्य का प्रकाश न होता तो हमारा जीवन अंधकारमय होता। सूर्य की किरणें सभी में एक नया उजियारा भरती है। जो है ज्ञान और प्रकाश का प्रतीक।

अक्सर कहा जाता है कि हंसने वालों के घर हमेशा बसते हैं। जो हमेशा रोते रहते है उनके घर कभी भी नहीं बसते। अगर कोई व्यक्ति प्रसन्न न हो तो उसे खुश करने का प्रयत्न करना चाहिए। नवग्रहों में जिसकी गति गोचर दृष्टि से ठीक न चल रही हो। खुश रहने के लिए आप मंत्र जाप करके या पूजा पाठ करके प्रसन्नचित रह सकते हो।

ग्रहों को प्रसन्न करने के लिए इनकी मूर्तियां ताम्र, स्फटिक, रक्त चंदन, स्वर्ण, चांदी और लोहा, सीसा और कांसे की बनवा कर आप इसे यंत्राकृति बनवाकर प्रतिष्ठित करके धारण करें। पूजा में विशेष रूप से गंध, फूल, दीप और होते हैं। पीड़ादायक ग्रहों की तुष्टि के लिए फल चढ़ाने चाहिए। सबको प्रसाद बांटना चाहिए और खुद भी खाना चाहिए।

ग्रह दोष निवारण के लिए प्रिय औषधियों से स्नान करें। जो बड़ा ही सरल उपाय है। आप अपने सामर्थय के अनुसार श्रद्धा और विश्वास के साथ शांति कर्म करवाएंगे तो आपको सफलता जरूर मिलेगी।

सूर्य की प्रसन्नता हासिल करने के लिए आप गुड़, गेहूं का दान कर सकते हैं। मंगल ग्रह को खुश करने के लिए आप गुड़ और मसूर दान करें। गुरु की प्रसन्नता के लिए चने की दाल और शक्कर दान करें। चंद्रमा की प्रसन्नता के लिए चावल और घृत का दान करें। राहु की प्रसन्नता के लिए तिल और तेल का दान करें। इन उपायों को करके आप ग्रहों को शांत और प्रसन्न रख सकते हो।

अगर फिर भी आपके मन में ग्रहों के बारे में कोई शंका या सवाल हो तो आप नोएडा स्थित बजरंगी धाम आ सकते हो।

जय बजरंग बली

Comment & Reviews

WRITE A REVIEW (SYSTEMATIC POMOLOGY (VOL...) PLEASE LOGIN!   Login