Is Karwachaut - Kya Karen Kya Na Karen

                                 करवाचौथ

इस बार करवाचौथ में  पूजन का समय शाम को 6.23 मिनट से लेकर 7.40 मिनट तक का है | इस समय चन्द्रमा मेष राशि में होगा लेकिन 8.50 मिनट पर चन्द्रमा वृषभ राशि में प्रवेश कर जायेगा | जहाँ पर यह उच्च की राशि में होगा  |चन्द्रमा को अर्क देने का सही समय 8.50 मिनट से होगा | चन्द्रमा का दो राशियों में स्थायित्व अलग अलग तरीके से राशि अनुसार व्रत कर्ता को परिणाम देता है I इसमें जो राशियाँ वृषभ राशि से 6, 8 , 12 पर होती है यानि तुला, धनु  ,मेष , इसमें  नकारात्मक प्रभाव पढ़ते है इसलिए तुलाधनु  , मेष , राशि वाली स्त्रियों को चंद्रोदय के 20 मिनट के बाद चाँद को अर्क देना चाहिए ताकि दुष्परिणाम प्राप्त हो | बाकि राशि वाली स्त्रियां चंद्रोदय के तुरंत बाद पूजा कर सकती है |

 

इसमें वृश्चिक राशि वाली स्त्रियां  कृपया ध्यान दें  ,कि उनको 9 बजे से 9:05 के बीच में  चंद्र पूजा करनी चाहिए |

 

 

चंद्रमा देखने से पहले भूलकर भी करें ये काम

.चन्द्रमा को माता का प्रतीक माना जाता है | इसलिए करवाचौथ के दिन अपनी सास, माँ या अपने से बड़ी किसी भी स्त्री का अपमान नहीं करना चाहिए

. इस दिन कला नीला  या भूरा वस्त्र पहनकर पूजा करें

.चन्द्रमा देखने से पहले माँ गौरी का पूजन अवश्य करें |

. करवाचौथ के दिन दूध,दही चावल, सफ़ेद कपडा या सफ़ेद वस्तु का दान करें

Comment & Reviews

WRITE A REVIEW (SYSTEMATIC POMOLOGY (VOL...) PLEASE LOGIN!   Login