अर्घ्य करेगा आरोग्य

               अर्घ्य करेगा आरोग्य

प्राचीन काल से ही हिन्दु धर्म मे कई मान्यताएं चली आ रही है जिनको हम अब तक निभाते आ रहें हैं बेशक इसमें थोड़ा बहुत परिवर्तन आ गया है लेकिन आज भी हम उन मान्यताओं और परम्पराओं को निभाते आ रहें हैं। वैदिक ज्योतिष आचार्य पंडित विनय बजरंगी जी के अनुसार अगर कोई इन धार्मिक मान्यताओं को नहीं मानता तो उसे कई तरह के दुख और बीमारियों का सामना करना पड़ता है। यही कारण है कि हम अपनी धार्मिक मान्यताओं को भुलाकर इसे पुरानी सोच कह देते हैं। लेकिन इन रीतियों का पालन न करने का ही परिणाम है कि आज हमें कई तरह के रोगों से ग्रस्त हैं। वैदिक ज्योतिष और ग्रंथों के अनुसार पहले लोग पूजा पाठ के साथ-साथ कई धार्मिक कार्य करते थे। जो हमें भक्ति की ओर तो प्रेरित करते थे वहीं इन्हें करने से किसी भी तरह का गंभीर रोग भी नहीं होता था। तभी तो पहले लोगों की आयु भी लंबी होती थी।

लेकिन आज की भागम भाग भरी ज़िंदगी में किसी के पास भगवान का नाम लेने का भी समय नहीं है।

अगर बात करें सूर्य को अर्घ्य देने की , तो इससे पापों का नाश होता है। सूर्य की किरणों में इतनी ताकत है कि वो हमें असुरी शक्तियों से बचाती है और अगर हम सूर्य को अर्घ्य देते हैं तो वो हमारे शरीर पर कवच की भांति रहकर हमारी रक्षा करता है और कोई भी या किसी भी प्रकार की असुरी शक्तियां हमारा बाल भी बांका नहीं कर सकती ! ये रोगों को समाप्त करने की शक्ति होती है सूर्य की इन लाजवाब किरणों में कई तरह के रोग या बुखार के जो कण हमारे शरीर में समा कर हमारी शरीरिक प्रणाली को अव्यस्थित करते हैं। अगर हम हर रोज सुबह उठकर सूर्य देवता को जल देते हैं तो इससे वो हम पर कृपा करके हमारे रोगों के नष्ट करते हैं। सूर्य को अर्घ्य देने का इतना महत्व है कि हमारे शरीर पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ने के साथ-साथ हमें कई तरह से रोगों से छुटकारा भी मिलता है तो इसलिए आप भी सुबह उठकर सूर्य देवता को करें नमन और दुखों से रहें दूर।

Also explained in ENGLISH as below.

Offerings to God will Ensue Good Health .


Many beliefs in the Hindu religion that were started in the ancient times are still being followed by the current generation and in particular, the guru–shishya tradition.. Of course,some changes have taken place with the level of education & overall virtual exposure . Nevertheless, these beliefs and traditions still exist. So, there must be some scientific reason behind it. In the opinion of VedicJyotish, Acharya Pandit. Vinay Bajrangi, some people are not following these religious traditions, thinking these are orthodox superstitions or waste of time; they call them out dated thoughts. Also, in today’s busy life, people have no time to worship God, or even chant the name of God.“

 

People should realize the scientific reasons behind all these rituals. These people ought to do a profound analysis as to why , in this era compared to the last era..

  • The human lifespan has been drastically reduced in the current era;
  • Why there are so many diseases and so much stress,

 

As per Vedic Astrology and ancient scriptures, people use to do many religious works along with Pooja - paat (worship of the God).That was the reason people use to enjoy healthy and long life.

Take a very simple example of Worshiping Sun rays (Surya Namaskar):

 

Our offerings to Sun clears out our sins.Sun rays have so much power that they save us from demonic powers,and if we do the offering to the Sun, they protect us like a protection shield (armor) on our body, and no demonic powers can have any bad effects on our body.Sun rays are so matchless and powerful that they have power to finish the different type of particles of disease and fever which disturb our body system. It makes the disease ineffective on our body. If we get up early in the morning and offer water to Sun, the Sun God heals many of the diseases. Offering to the lord Sun is so effective that we get freedom from so many types of diseases in addition to its positive effect. So get up early in the morning, bow towards Sun and keep away from sadness. 

Comment & Reviews

WRITE A REVIEW (SYSTEMATIC POMOLOGY (VOL...) PLEASE LOGIN!   Login