RAM NAVAMI

DR. VINAY BAJRANGI

क्यों मनाया जाता  है रामनवमी, इससे हमें क्या प्रेरणा मिलती हैं | आईये मैं डॉ. विनय आपको बताता हूँ |

रामनवमी का पर्व चैत्र माह में शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाया जाता हैं | क्या आप जानते हैं,  रामनवमी का पर्व क्यों मनाया जाता हैं | रामनवमी भगवान श्री राम जी के जन्म  के उपलक्ष्य में मनाई जाती हैं | वास्तव में भगवान राम ने पुरुष चरित्र को चरितार्थ किया था | इन्होने अपने धर्म और कर्म को अपने जीवन का आधार बनाया था | भगवान विष्णु ने राम का रूप धरकर धरती वासियों को सदमार्ग दिखाया था | और जिस कारण से उन्हें मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम भी कहा जाता है |

रामनवमी व्रत कथा  :-

कहते हैं, जब - जब धरती पर बुराई का भार अच्छाई से अधिक होता है, तब - तब भगवान स्वयं धरती पर आकर बुराई का नाश करते हैं और मनुष्य जाती का उद्धार करते हैं |

भगवान विष्णु जी का धरती पर राम के रूप में जन्म हुआ | कहा जाता है कि जब - जब धरती पर असुरों का आतंक बढ़ गया तब भगवान विष्णु ने मानव के रूप में जन्म लिया और असुरों का संहार कर धरती को पुनः पाप से मुक्त किया | उसी तरह जब धरती पर रावण और राक्षसी ताड़का जैसे असुरों का आतंक सीमा पार हो गया , तब भगवान विष्णु एवम माता लक्ष्मी ने राम एवम सीता कि रूप में धरती पर जन्म लिया और असुरों के संहार के साथ - साथ मानव जीवन एवम एक प्रजा पालक की मर्यादा का उदाहरण प्रस्तुत किया | 

भगवान श्री विष्णु जी का जन्म भी धरती पर मानव रूप में अधर्म पर धर्म के विजय के लिए हुआ था |

कहते हैं कि रामनवमी के पर्व के साथ ही माँ दुर्गा के नवरात्रों का समापन भी जुड़ा हैं | इस तथ्य से ज्ञात होता है कि भगवान श्री राम जी ने भी देवी दुर्गा की पूजा की थी | और उनके द्वारा की गई शक्ति पूजा से ही भगवान श्री राम को धर्म युद्ध में विजय प्रदान हुई थी |