नवरात्र में क्यों जलाते हैं अखंड दीपक, क्या है इसका महत्व?

नवरात्र में क्यों जलाते हैं अखंड दीपक, क्या है इसका महत्व?

जानिए वैदिक ज्योतिष के हिसाब से ज्योतिष आचार्य पंडित विनय बजरंगी जी से

नई दिल्ली। 21 सितंबर से शारदीय नवरात्र 2017 का शुभारंभ होने जा रहा है। नौ दिनों तक चलने वाली इस पूजा में देवी दुर्गा के नौ स्वरूपों आराधना की जाती है। इस पावन पर्व पर कई घरों में घटस्थापना होती है तो कई जगह अखंड ज्योत का विधान है। शारदीय नवरात्र 2017:

जानिए घट-स्थापना की पूजा और मुहूर्त का समय लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि लोग क्यों दुर्गा पूजा में अखंड ज्योत जलाते हैं, अगर नहीं तो चलिए जानते हैं...

दरअसल ऐसा माना जाता है कि मां के सामने अंखड ज्योति जलाने से उस घर में हमेशा मां की कृपा बनी रहती हैं। 

नवरात्र में अखंड दीप जलाने से मां कभी अपने भक्तों से नाराज नहीं होती हैं और अपने भक्तों पर माँ अपनी असीम कृपा बरसाती रहती है |

नवरात्र में अखंड ज्योति से पूजा स्थल पर कभी भी अनाप-शनाप चीजों का साया नहीं पड़ता है अर्थात कोई भी बुरी शक्ति या बुरा प्रभाव हमारे घर पर नहीं पड़ता है |

 

नवरात्र में घी या तेल का अखंड दीप जलाने दिमाग में कभी भी नकारात्मक सोच हावी नहीं होती है और हमारा चित्त खुश और शांत रहता है तथा घर में सुख शांति बनी रहती है |

नवरात्र में अंखड दीप जलाना स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा है क्योंकि घी और कपूर की महक से इंसान की श्वास और नर्वस सिस्टम बढ़िया रहता है।

घर में सुगंधित दीपक की महक मन को शांत रखती है जिसके चलते घर में झगड़े नहीं होते, वातावरण शांत रहता है। जिससे घर में हमेशा शांति और खुशहाली बनी रहती है |