बगलामुखी बनाएगी सारे काम

baglamukhi

नवरात्र का समय एक ऐसा समय है जिसमें हर कोई भक्ति भावना से ओत प्रोत नज़र आता है। देवी मां अपने भक्तों पर विशेष कृपा करती हैं।सुख समृद्धि, हर काम पूर्ण होते हैं। देवी मां कष्टों का निवारण करती है। नवरात्र में बगलामुखी देवी की साधना करने का क्या महत्व है। बगलामुखी देवी की साधना करने से कैसे बिगड़े सभी काम देवी मां बनाती हैं आईए मैं विनय बजरंगी आपको बताता हूं कि देवी की साधना करने से हमें क्या फल प्राप्त होता है। अगर बगलामुखी देवी की साधना शुक्ल पक्ष में गुरु एवं पुष्य योग में शुरू की जाए तो बेहद लाभदायक होती है यह कठिन तो नहीं है लेकिन इसे किसी समझदार और ज्ञानी व्यक्ति से पूछकर ही करना चाहिए। इस दौरान अगर कोई किसी की निंदा या चुगली करता है तो साधक को कई परेशानियां झेलनी पड़ सकती हैं। जब हम भक्ति करते हैं तो हमारे मन में किसी के लिए द्वेष, बैर, विरोध नहीं होना चाहिए। भक्ति करते हुए हमारे मन में देवी के प्रति अगाध श्रद्धा और पूर्ण विश्वास होना चाहिए। अगर भक्ति करते हुए हमें आलौकिक दृश्य या कोई खास तरह का अनुभव हो तो हमें इनसे घबराना नहीं चाहिए। देवी मां की साधना रात के समय करते हुए मंदिर, पर्वत या नदी के तट पर करनी चाहिए। साधना करते वक्त पीले कपड़े और पीली ही पूजा सामग्री रखनी चाहिए। भक्ति करने वाले भक्त को चाहिए कि अपनी इच्छा की पूर्ति के लिए संकल्प लेकर मां को पूरी आस्था और श्रद्धा से याद करना चाहिए। अनुष्ठान के लिए साधक को अपनी हैसियत के अनुसार जप को निर्धारित करना चाहिए। दरिद्रता को दूर करने के लिए माता के विशेष मंत्र की पूजा करनी चाहिए।

अगर किसी को औलाद का सुख नहीं मिल पा रहा यानि कि औलाद नहीं हो रही हो तो अशोक के पत्ते, कनेर के फूल, तिल और दूध में मिले चावल चढ़ाने चाहिए। घर में हमेशा शांति बनी रहे इसके लिए पीली सरसों, काले तिल,गूग्गल, काले तिल, कपूर, नमक और काली मिर्च से हवन कराना चाहिए। जिस घर में बगलामुखी की भक्ति होती है उस घर से लड़ाई-झगड़ा, गृह कलह, बीमारियां कोसों दूर रहती हैं। अगर आप भी इन समस्याओं से हैं ग्रस्त तो करें मां बगलामुखी की भक्ति और आशीर्वाद प्राप्त करें देवी मां का। जो आपके सभी बिगड़े काम सवारेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *